स्मृति ईरानी के दस्तखत से जारी हुआ महिला आयोग में नियुक्ति का पत्र, फिर भी डेंटल सर्जन गिरफ्तार

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के फर्जी सिग्नेचर करने के आरोप में एक डेंटल सर्जन को सुल्तानपुर की स्थानीय अदालत के आदेश के बाद गिरफ्तार किया गया है। यह गिरफ्तारी स्मृति ईरानी के सहयोगी विजय गुप्ता द्वारा दर्ज शिकायत के बाद हुई है। डॉक्टर पर आरोप है कि उसने इंटरनेशनल शूटर वर्तिका सिंह की महिला आयोग में सदस्य के रूप में नियुक्ति से जुड़े एक दस्तावेज पर फर्जी हस्ताक्षर किए थे।

Also Read This- The influnce of teachers extends beyond the classroom, well into the future

स्मृति ईरानी के नाम पर नियुक्ति का आश्वासन दिया गया था

विजय गुप्ता ने अमेठी के मुसाफिर खाना थाने में एक शिकायत दर्ज कराते हुए वर्तिका और कांग्रेस के पूर्व सांसद कमल किशोर के खिलाफ छवि खराब करने का आरोप लगाया था। दरअसल, वर्तिका सिंह द्वारा यह दावा किया गया था कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के नाम पर उन्हें राष्ट्रीय महिला आयोग में सदस्य के रूप में नियुक्ति का आश्वासन दिया गया था। इसके एवज में 25 लाख रुपये वसूले भी गए थे।

सोशल मीडिया पर इसके दस्तावेज जारी कर दिए गए

नियुक्ति नहीं हुई तो सोशल मीडिया पर इसके दस्तावेज जारी कर दिए गए। पुलिस द्वारा जब इस मामले की जांच की गई तो पाया कि वर्तिका सिंह ने पूर्व सांसद की मदद से जो दस्तावेज दिखाए थे वह डेंटल सर्जन डॉक्टर रजनीश कुमार द्वारा तैयार किए गए थे।पुलिस द्वारा वर्तिका सिंह और डॉक्टर के खिलाफ जालसाजी का आरोप पत्र दायर किया गया।

Also Read This- Reliance Retail will unveil saree, ethnic wear stores

स्मृति ईरानी के दस्तखत करने वाला डॉक्टर गिरफ्तार

इधर गिरफ्तारी से पहले डॉक्टर फरार हो गया था। पुलिस ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया तो शुक्रवार की शाम रजनीश ने आत्म समर्पण कर दिया। पुलिस ने बताया कि अब उसकी संपत्ति कुर्क करने की कार्रवाई की जाएगी। इधर वर्तिका सिंह द्वारा भी एक याचिका दायर की गई है। जिसमें उन्होंने खुद को भी एक पीड़िता बताया है। कोर्ट के आदेश पर डॉक्टर रजनीश को 17 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

One thought on “स्मृति ईरानी के दस्तखत से जारी हुआ महिला आयोग में नियुक्ति का पत्र, फिर भी डेंटल सर्जन गिरफ्तार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *