भारत में बेरोजगारी की बढ़ती समस्या, ये हैं कारण, ऐसे होगा समाधान

Report by Deepanshi Sharma.

आज़ादी के 75 सालों बाद भी हमारा देश भारत कई प्रकार की समस्याओं से निकल नहीं पाया है। इन समस्याओं में सबसे बड़ी समस्या है- बेरोजगारी की समस्या। इसका का अर्थ होता है- किसी व्यक्ति को उसकी योग्यता और ज्ञान के अनुसार सही काम या नौकरी ना मिल पाना। भारत में बेरोजगारी लोगों के जीवन में दो प्रकार से आक्रमण कर रही है। पहले में वह शिक्षित लाखों लोग आते हैं जो नौकरी और रोजी-रोटी की तलाश में जगह-जगह भटक रहे हैं। ऐसे लोगों के पास  ना ही कोई काम है और ना ही कोई पैसे कमाने का कोई ज़रिया, जिससे कि वह एक स्वतंत्र जीवन जी सकें। वहीं दूसरे में वह लोग आते हैं जो नौकरी तो कर रहे हैं परंतु उससे वह इतना कम पैसा कमाते हैं कि अपने परिवार के लिए दो वक्त की रोटी भी नहीं जुटा पा रहे हैं। यह बेकारी की समस्या देश के लिए बड़ी समस्या हीं तो हैं।

आखिर क्या प्रभाव बेरोजगारी का भारत पर

बेरोजगारी धीरे-धीरे भारत पर एक बड़ा शाप बनता चला जा रहा। एक बड़ी कहावत है, खाली दिमाग शैतान का घर होता है। इसीलिए तो लोगों के लिए करियर के अच्छे अवसर और बेरोजगारी न होने के कारण ही समाज में लूट-पाट, चोरी-चकारी, दंगा-फसाद, और नशा जैसी बड़ी समस्याएं पैदा हो रही हैं। तरह-तरह की शिक्षा और स्वच्छ भारत अभियान की तरह ही बेरोजगारी की समस्या का भी हल निकालने की बहुत आवश्यकता है। जब तक देश में सभी लोगों को उनकी आवश्यकता के अनुसार काम नहीं मिलता तब तक एक स्वच्छ देश बनना असंभव है।

यह भी पढ़ें- छोटी-छोटी खुशियों में मुस्कुराना और हर पल कुछ नया सीखना ही है जिंदगी

बेरोजगारी का कारण क्या है आखिर

भारत में बेरोजगारी की समस्या ब्रिटिश सरकार के कारण पैदा हुई। परंतु ऐसे कई देश हैं जो पूरी तरीके से मिट जाने पर भी आज भारत से कई गुना विकास की राह पर हैं। किसी पर भी दोष देकर इसका कोई लाभ नहीं क्योंकि किसी ना किसी जगह गलती हमारी भी होती है। आज दुनिया में पैसे से ज्यादा समय का मूल्य बहुत ज्यादा है इसलिए ज्यादातर कंपनियों ने लोगों की हाथ की मेहनत को कम करके मशीनों से काम करना शुरु कर दिया है। जिसके कारण लोगों के लिए नौकरी के अवसर कम हो गए हैं।

आखिर क्या है बेरोजगारी का समाधान

हम सभी भारतीयों को स्वयं को ज्ञान और नए आविष्कारों के माध्यम से इतना काबिल बनाना होगा जिससे विश्व भर की बड़ी कंपनियों को हमारी ताकत का पता चल सके और वह भारत में आयें और अपनी कंपनियां शुरू करें। इससे हमारे देश के लोगों को करियर के नए अवसर मिलेंगे और हमारे देश को विकसित होने में मदद मिलेगी। सरकार ने भी भारत के लोगों को आगे ले जाने के लिए कई प्रकार के योजनाएं जारी की हैं, जैसे प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना, मुद्रा लोन योजना, आवास योजना, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान, सुकन्या समृद्धि।

नए काम शुरू करने की जरूरत

हमारे देश की एक और सबसे बड़ी समस्या यह है कि ज्यादातर युवा अपनी शिक्षा के बाद नौकरी करने के विषय में बहुत सोचते हैं। जबकि हमारे युवाओं को सोचना चाहिए कि वह अपनी शिक्षा के बाद अपने ज्ञान की मदद से कोई नए-नए काम शुरू करें जिससे उन्हें नौकरी की जरूरत ना पड़े। नए काम शुरू करने का एक सबसे बड़ा लाभ यह है कि वह स्वयं तो सफल बनेंगे साथ ही उनके काम के माध्यम से और भी युवाओं और देश के नागरिकों को नौकरी के नए अवसर प्राप्त होंगे। फिर गांव हो या शहर आप हर जगह एक छोटे से व्यापार को शुरू कर सकते हैं और अगर आपके पास शुरू करने के लिए जमा किया हुआ धन नहीं है तो आप बैंक से लोन लेकर भी शुरू कर सकते हैं।

जनसंख्या पर नियंत्रण जरूरी

देश में बेरोजगारी की समस्या को दूर करने के लिए लोगों की संख्या को रोकना होगा। आज विश्व भर में जितने भी विकसित देश हैं उनकी जनसंख्या बहुत ही कम है जिसके कारण उन देशों में नौकरी के अवसर बहुत ज्यादा है और लोग ज्यादा सफल हैं। आज के समय में देश में लोगों की बढ़ती तादाद के कारण जनसँख्या के मुकाबले रोज़गार कम पड़ जा रहे हैं और बेरोजगारी की समस्या भी बढ़ती जा रही हैं। आज हमारे देश में सड़कें, रेलें, हवाई जहाज़, भवन निर्माण, स्कूल, कॉलेज, तथा अस्पताल आदि कुछ ऐसी सेवाएं हैं जिनके प्रसार की बहुत ज्यादा मांग है। इन्हीं सेवाओं के विकास के लिए सरकार हर दिन नए-नए योजनाएं शुरू कर रही हैं।

सरकार की पहल

भारत सरकार ने अनपढ़ लोगों के लिए भी रोजगार के नए रास्ते खोल दिए हैं। प्रधानमंत्री जनधन योजना बैंक अकाउंट के माध्यम से सरकार करोड़ों गरीब किसानों और गरीबी रेखा से नीचे के लोगों को कई प्रकार के आर्थिक सुविधाएं भी प्रदान कर रही है। लोगों को सरकार की इन योजनाओं से जुड़ना चाहिए और इन योजनाओं के माध्यम से अपने आने वाली पीढ़ी को शिक्षित बनाना चाहिए जिससे वह हमारे देश भारत का भविष्य बन सकें। गांव से लेकर शहर तक हर एक व्यक्ति चाहे महिला हो या पुरुष को यह ठान लेना चाहिए कि वह जीवन में कुछ ना कुछ काम करते रहेंगे और देश से गरीबी को मिटाकर खुशहाली लाएंगे। इसी प्रकार से बेरोजगारी खत्म होती जाऐगी।

(Deepanshi is student of MA (J&MC) 1st Semester of MAHARISHI UNIVERSITY OF INFORMATION & TECHNOLOGY)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *