आम बजट की ये रहीं ख़ास बातें… आयकर में कोई बदलाव नहीं, कई नई योजनाएं भी

Report By Deepanshi Sharma.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक फ़रवरी को आम बजट 2022-23 (Budget 2022) पेश किया। इस आम बजट 2022-23 में उन्होंने किसानों,  दलितों,  महिलाऔं और य़ुवाओं को सबसे ज्यादा फायदा होने की बात कही है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) का कहना है कि सबका फायदा ही हमारा लक्ष्य है। यह आम बजट 2022-23 मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का चौथा बजट है। आयकर की दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। आयकर (Income Tax) की दरों या स्लैब में बदलाव की उम्मीद लगाए टैक्‍सपेयर्स को निराशा मिली है। लोगों को यह जानने में उत्सुकता रही थी कि बजट में क्या महंगा हुआ और किन वस्तुओं के लिए उन्हें ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी। बजट के कारण इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स, जवाहरात, घड़ियां और केमिकल्स सस्ते होंगे, तो वहीं विदेशी छाते महंगे हो जायेंगे। इसके अलावा क्रिप्टोकरंसी से होने वाली इनकम पर 30 फीसदी टैक्स लगा दिए गए हैं। निर्मला सीतारमण ने कहा कि इस बजट से अगले 25 सालों की बुनियाद रखी जाएगी। इस बजट में 16 लाख नौकरियां देने का वादा भी किया है।

Also Read This- यूपी और दिल्ली जैसे शहरों में क्यों नहीं होती है स्नोफॉल

आम बजट 2022-23 में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 90 मिनट में कीं कई घोषणाएं

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सबसे पहले किसानों के फायदे की बात करते हुए कहा, बजट के अनुसार सरकार ने किसानों के खाते में एमएसपी के जरिए 2.37 करोड़ रुपये भेजे हैं। निर्मला सीतारमण ने कहा कि खेती का प्रसार बढ़ाने के लिए सरकार की तरफ से केमिकल और कीटनाशक मुफ्त दिया जाएगा और साथ ही गंगा के किनारों के पांच किमी के दायरे में आने वाली जमीन पर आर्गेनिक खेती करने वाले किसानों को बढ़ावा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि फलों और सब्जियों की उन्नत किस्म अपनाने वाले किसानों की मदद के लिए राज्यों के साथ मिलकर काम करेंगे। किसानों को डिजिटल सर्विस मिलेगी, जिसमें खाद, बीज, दवाई से संबंधित सेवाएं शमिल होंगी। इसके बाद मंत्री सीतारमण ने वर्चुअल करेंसी पर बड़ा टैक्स लगने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि कमाई पर 30 फीसदी टैक्स लगेगा, घाटा होने पर भी टैक्स देना होगा। इसकी गिनती में किसी तरह की छूट नहीं मिलेगी। कॉर्पोरेट टैक्स को 18% से घटाकर 15% कर दिया है।

महिला-बाल कल्याण विकास की योजनाओं पर जोर

महिला-बाल कल्याण विकास की योजनाओं के बारे में वित्त मंत्री ने कहा कि इस योजना में आंगनबाड़ी के जरिए बेहतर बुनियादी सुविधाएं दे रहे दो लाख आंगनबाड़ी केंद्र बनाएंगे। जेजेएम में 7000 करोड़ का वितरण किया जाएगा और 2022-23 में 80 लाख आवास बनाए जाएंगे। वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन ने पीएम ई-विद्या प्रोग्राम के बारे में कहा कि महामारी के दौरान स्कूल बंद रहने से गांव के बच्चों को दो साल शिक्षा से दूर रहना पड़ा। पीएम ई-विद्या के तहत ऐसे बच्चों के लिए क्लास एक टीवी चैनल प्रोग्राम के द्वारा दी जाएंगी। अब चैनल 12 से 200 कर दिए जाएंगे। ये चैनल क्षेत्रीय भाषाओं में होंगे।

Also Read This- राष्ट्रपति के अभिभाषण की अहम बातें; किसानों, महिला सशक्तिकरण को लेकर गिनाए काम

व्यावसायिक शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए तकनीक की मदद ली जाएगी

उन्होंने कहा कि व्यावसायिक शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए तकनीक की मदद ली जाएगी। एक डिजिटल यूनिवर्सिटी भी बनाई जाएगी। उसके बाद 400 नई जेनरेशन की वंदेभारत ट्रेनों के बारे में कहा कि अगले तीन साल के दौरान 100 गति शक्ति कार्गो ट्रेन चलाई जाएंगी। कीटनाशक छिड़काव के लिए ड्रोन का इस्तेमाल होगा। तेल तिलहन का उत्पादन बढ़ाने पर जोर, छोटे और मध्यम उद्यमियों को 2 लाख करोड़ का कर्ज देंगे।  इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। उन्होंने रोजगार और गरीबों के लिए कहा कि पीएम गति शक्ति मास्टर प्लान के तहत एक्सप्रेस-वे बनेंगे। नेशनल हाइवे नेटवर्क 25 हजार किमी तक बढ़ाया जाएगा। इस मिशन के लिए 20 हजार करोड़ रुपए का इंतजाम किया गया है। हमारी कोशिश 60 लाख नए रोजगार का सृजन करने की होगी। गरीबों के लिए 80 लाख घर बनाए जाएंगे। 48000 करोड़ रुपए इसका बजट है। 2022-23 में ई-पासपोर्ट जारी किए जाएंगे, जिनमें चिप लगी होगी। विदेश जाने वालों को सहूलियत होगी। डाकघरों में भी अब एटीएम मिलेंगे। मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि राजकोषीय स्थिति को मजबूत करेंगे।  पिछले साल के कदमों से काफी विकास हुआ है। इस बजट में भी इसे आगे बढ़ाएंगे। स्वास्थ्य के इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करेंगे। वैक्सिनेशन को बढ़ावा देने की कोशिश करेंगे।

(Deepanshi is student of MA-JMC first year from Maharishi University Of Information Technology, Noida)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *