हिजाब को लेकर देश भर में विवाद, नेताओं व फिल्मी कलाकारों के बयानों से और भड़की आग

Written by Deepanshi Sharma.

कर्नाटक में हिजाब विवाद गरमा गया है। हिजाब को लेकर देश भर में बवाल तेज होता जा रहा है। इस बीच एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है। इस वीडियो को बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर सहित बड़ी संख्या में यूजर्स ने शेयर किया है। इस बीच लालू यादव ने कहा कि देश गृह युद्ध की ओर जा रहा है। विवाद की धमक अब कर्नाटक से बाहर मध्य प्रदेश, पुडुचेरी में भी सुनाई दे रही है। वही इससे पहले प्रियंका गांधी, असदद्दुीन ओवैसी समेत कई राजनेता इसपर प्रतिक्रिया दे चुके हैं। अलग-अलग प्रदेश के राजनेता इस मसले पर अलग-अलग नजर आ रहे हैं। यह विवाद कर्नाटक और वहां के स्कूलों-कॉलेजों से होते हुए देश के बाकी हिस्सों में पहुंच गया है। इस पर अब विभिन्न पार्टियों के राजनेता भी आमने-सामने आते दिख रहे हैं। इस बीच दिल्ली-मुंबई में भी विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। कुछ नेताओं का इस पर बयान भी आया है। हिजाब को लेकर प्रियंका गांधी मुस्लिम लड़कियों के समर्थन में आ गई हैं। आईएमएम पार्टी के प्रमुख असदुद्दीनओवैसी ने कहा कि इस विवाद से नफरत फैलाई जा रही है। वहीं दूसरी ओर बीजेपी ने कानून और ड्रेस कोड को देकर हिजाब को गलत बताया है।

आखिर क्यों शुरू हुआ विवाद, होता क्या है हिजाब

हाल ही में कर्नाटक सरकार ने राज्य में Karnataka Education Act-1983 की धारा 133 लागू कर दी है। यह ह‍िजाब विवाद जनवरी में उडुपी के एक सरकारी महाविद्यालय से शुरू हुआ था। इस हिजाब एक्ट की वजह से अब सभी स्कूल-कॉलेज में यूनिफॉर्म को अनिवार्य कर दिया गया है। लेकिन कॉलेज में छह छात्राएं तय ड्रेस कोड का उल्लंघन कर हिजाब पहनकर क्‍लास में आई थीं। इसके बाद इसी तरह के मामले कुंडापुर और बिंदूर के कुछ अन्य कॉलेजों में भी आए। राज्य में ऐसी कई घटनाएं हुई हैं, जहां मुस्लिम छात्राओं को हिजाब में कॉलेजों या कक्षाओं में जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है। वहीं, हिजाब के जवाब में हिंदू स्‍टूडेंट ने भगवा रंग के शॉल पहनकर एक जुलूस निकाला। बेलगावी के रामदुर्ग महाविद्यालय और हासन, चिक्कमंगलुरु और शिवमोगा में हिजाब या भगवा शॉल के साथ छात्र-छात्राओं के आने की घटनाएं सामने आई हैं। इसकी वजह से मंगलवार को हालात ज्यादा बिगड़ गए थे, जिसको देखते हुए कर्नाटक सरकार ने 3 दिनों के लिए स्कूल कॉलेज बंद कर दिए हैं।

कौन-कौन था हिजाब विरोधी

मामला कर्नाटक हाई कोर्ट में पहुंच चुका है। सबसे पहले बात शुरू करते हैं कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मई के बयान से। उन्होंने साफ कर दिया है कि छात्राएं बाहर जो चाहे पहनें, लेकिन स्कूल मे ड्रेस कोड में ही आना होगा। वहीं यूपी सरकार में मंत्री और बीजेपी के नेता मोहसिन रजा का कहना है कि हिजाब पर जो चर्चा कर रहे हैं वे ‘बेहिजाब’ लोग हैं। यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य का भी इस पर बयान आया है। उन्होंने कहा कि इस तरह के विवाद जानबूझकर कांग्रेस पार्टी के द्वारा खड़े किए जाते हैं। वह बोले कि मामला ड्रेस कोड को फॉलो करने वाला है, बाहर कुछ भी कोई पहने इस पर कोई विवाद ही नहीं है। दूसरी तरफ बीजेपी सांसद गिरिराज सिंह ने कहा कि गजवा ए हिंद की सोच की वजह से यह नफरत फैल रही है। वहीं एक्ट्रेस और बीजेपी नेता खुशबू सुंदर ने कहा है कि शिक्षा के संस्थान धर्म की नुमाइश का अड्डा नहीं हैं हिजाब का विवाद।

जय श्री राम के नारे लगाते लड़कों को मिला, अल्लाहू अकबर से जवाब.

यह विवाद दिसंबर में उडुपी के एक कॉलेज में 6 छात्राओं को हिजाब पहनने के कारण कक्षाओं में आने से मना कर दिया गया था जिसके बाद यह शुरू हुआ। एक कॉलेज में शुरू हुआ विवाद दूसरे कॉलेजों में भी पहुंचा जहां पर हिजाब पहनी छात्राओं को कॉलेज में प्रवेश नहीं दिया गया। यह विवाद फिर और भड़क गया जब एक और समूह की छात्रों ने कॉलेज में भगवा रंग का शॉल पहनकर आना शुरू किया और ‘जय श्री राम’ के नारे लगाए। इसके बाद देखा जा रहा है कि कर्नाटक में हिजाब विवाद के बीच एक लड़की की तस्वीर तेजी से वायरल हो रही है। बुरका पहने इस लड़की के बीच कई लड़कों का एक झुंड दिखाई दे रहा है। उसमे यह लड़के इस मुस्लिम लड़की को घेरे हुए हैं, इसके बावजूद वह बिना डरे इनका मुकाबला कर रही है। इस तस्वीर के बाद हर कोई जानना चाहता है कि आखिर यह लड़की है कौन जिसने लड़कों से घिरे होने के बाद हिम्मत नहीं हारी और जय श्री राम के नारे का जवाब अल्लाहू अकबर से दिया। इस लड़की का नाम मुस्कान हैं। इस लड़की ने मीडिया को जवाब देते में कहा कि मैं कॉलेज असाइनमेंट के लिए आई थी। वे लोग मुझे अंदर नहीं जाने दे रहे थे, क्योंकि मैनें बुरका पहना हुआ था। उनका कहना था कि पहले बुरका उतारो फिर अंदर जाओ। मैं वहां दोबारा गई तो लड़कों ने मुझे घेर लिया और जय श्री राम के नारे लगाने लगे, इसके जवाब में मैंने भी अल्लाहू अकबर का नारा लगाया। वह बताती है कि मेरे टीचर और प्रिंसिपल ने मेरा सपोर्ट किया, उन लोगों ने मुझे भीड़ से बचाया। मुस्कान ने यह भी बताया की कुछ लड़के कॉलेज के थे और उन्हीं में कुछ लड़के कॉलेज के बाहर के थे। मुस्कान की ऐसी हिम्मत देखने के बाद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा की मैं इस लड़की के मां-बाप को सलाम पेश करता हूँ। उन्होंने कहा कि भीख मांगकर और रोकर कुछ भी नहीं मिलेगा। उस लड़की ने कई कमजोरों को पैगाम दिया है। लड़की ने जो किया वह बहुत हिम्मत का काम था। कर्नाटक की इस घटना के बाद से मुस्कान सोशल मीडिया पर छा गई है। हिजाब के खिलाफ चल रहे इस प्रदर्शन का चेहरा बन गई हैं। लोग उनकी बहादुरी को सलाम कर रहे हैं।

(Deepanshi is student of MA-JMC from Maharishi University Of Information Technology, Noida)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *