यूक्रेन-रूस विवाद में जर्मनी के नौसेना प्रमुख को देना पड़ा इस्तीफ़ा, भारत पर भी असर

Report by Aasia Atique.

अपनी भारत यात्रा के दौरान रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) को लेकर दिए गए बयान के चलते जर्मनी के नौसेना प्रमुख के-अचिम शॉनबैक (German Navy Chief Vice Admiral Kay-Achim Schonbach) को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा। वाइस एडमिरल के-अचिम शॉनबैक (Kay-Achim Schonbach) ने क्रीमिया और व्लादिमीर पुतिन पर भारत यात्रा के दौरान विवादास्पद बयान दिए थे। इसके बाद से जर्मनी में बवाल मचा था। जर्मनी के रक्षा मंत्रालय ने नौसेना प्रमुख के बयान की निंदा की थी। उधर, दूसरी तरफ इन दिनों रूस और यूक्रेन के बीच जंग के हालात हैं। रूस और यूक्रेन ने भले ही पेरिस में द्विपक्षीय वार्ता के तहत सीजफायर (Ceasefire) पर अपनी सहमती व्यक्त की हो, लेकिन पूरी संभावना है कि यह एक अस्थायी सीजफायर है। दोनों देश कभी भी युद्ध की आग में जल सकते हैं। सबसे ख़ास बात यह है कि यूक्रेन और रूस के बीच विवाद का असर भारत पर भी पड़ेगा।

के-अचिम शॉनबैक ने यह कहा था

दरअसल नई दिल्ली में एक थिंक टैंक में अपने संबोधन में जर्मन नौसेना प्रमुख ने कहा था कि पुतिन शायद सम्मान के पात्र थे। उन्होंने यह भी कहा कि मास्को पर दबाव बनाने की कीव (यूक्रेन की राजधानी) की कोशिशों के बावजूद यूक्रेन कभी क्रीमिया को हासिल नहीं कर पाएगा। क्रीमिया प्रायद्वीप यूक्रेन के हाथ से चला गया है। यह कभी वापस नहीं आएगा। यूक्रेन में रूस की कार्रवाइयों को संबोधित करने की आवश्यकता है। इसके बाद पड़े चौतरफा दवाब के बाद के-अचिम शॉनबैक ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने शनिवार देर रात अपने नौसेना प्रमुख के इस पद को छोड़ दिया।

शॉनबैक ने दी इस्तीफे की जानकारी

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, वाइस एडमिरल शॉनबैक ने एक बयान में कहा है कि मैंने रक्षा मंत्री क्रिस्टीन लैंब्रेच (Defence Minister Christine Lambrecht) से मुझे तत्काल प्रभाव से अपने कर्तव्यों से मुक्त करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि मंत्री ने मेरा अनुरोध स्वीकार कर लिया है। वाइस एडमिरल शोएनबैक ने अपनी टिप्पणियों के लिए माफी मांगी।

के-अचिम शॉनबैक का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था

दरअसल, नई दिल्ली में एक थिंक टैंक कार्यक्रम में जर्मनी के नेवी चीफ के-अचिम शॉनबैक ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की तारीफ कर की. उनका तारीफ वाला वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसका काफी विरोध हुआ।  जिसके बाद उन्होंने अपने पद को छोड़ने का फैसला लिया। शॉनबैक ने यूक्रेन संकट (Ukraine Crises) के बीच राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ संबंध बनाने का अनुरोध किया था। यूक्रेन संकट के बीच रूस के राष्ट्रपति की तारीफ पर रक्षा मंत्री क्रिस्टीन लैंब्रेच ने भी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए नौसेना प्रमुख अचिम शॉनबैक से इस्तीफा देने की मांग की थी। इस मांग के बाद ही शॉनबैक ने अपने पद से इस्तीफा दिया है।

चरम पर है रूस और यूक्रेन के बीच तनाव
गौरतलब है कि रूस और यूक्रेन के बीच इन दिनों तनाव चरम पर है। रूस ने यूक्रेन की सीमा के पास एक लाख से अधिक सैनिकों को टैंक, तोप और रॉकेट लॉन्चर जैसे भारी हथियारों के साथ तैनात कर रखा है। इस बीच यूक्रेन भी तेजी से युद्ध की तैयारी कर रहा है। अमेरिका और ब्रिटेन ने यूक्रेन को एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल जैसे हथियारों की सप्लाई की है।

यूक्रेन और रूस के बीच विवाद का भारत पर पड़ सकता है असर

महत्वपूर्ण है कि यूक्रेन और रूस के बीच पिछले कुछ समय से जारी विवाद का भारत पर भी असर पड़ने की आशंका है। इस विवाद से कच्चे तेल की कीमतों पर असर पड़ सकता है। दोनों देशों के बीच चल रहे विवाद से कच्चे तेल की कीमतों पर भी बड़ा असर पड़ेगा। इसकी वजह है कि यूरोपीय देशों को जाने वाले एक तिहाई गैस रूस से होकर जाती है। ऐसे में अगर प्रतिबंध लगाए जाते हैं, तो वे इसका जवाब दे सकता है। यूक्रेन में गैस की कीमतें पहले ही पिछले साल के मुकाबले चार गुना बढ़ चुकी हैं। वहां संकट पहले से चल रहा है। ऐसे में अगर रूस पर किसी तरह के प्रतिबंध लगाए जाते हैं और रूस ने बदला दिया, तो कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोत्तरी हो सकती है। इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग चैनल स्विफ्ट द्वारा रूस या पुतिन पर कुछ प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं. इससे थोड़ी मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

(Aasia is student of BA-JMC first year from Maharishi University of Information Technology, Noida)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *