अमेरिका से लौटने के बाद नए संसद भवन के निर्माण का निरीक्षण करने पहुँच गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को नए संसद भवन (Central Vista Project ) के निर्माण स्थल का दौरा किया और वहां चल रहे निर्माण कार्य का जायजा लिया। करीब एक घंटे तक पीएम ने नए संसद भवन के लिए चल रहे निर्माण कार्य का जानकारी ली और साइट का दौरा किया।नए संसद भवन का निर्माण अगले वर्ष के दूसरे पूर्वार्ध तक पूरा होने की उम्मीद है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट की पूरी जानकारी ली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार रात को सेंट्रल विस्टा (नए संसद भवन) की कंस्ट्रक्शन साइट पर अचानक पहुंच गए। पीएम रात करीब 8 बजकर 45 मिनट पर कंस्ट्रक्शन साइट पर पहुंचे। उन्होंने डिजाइन मैप से लेकर जमीन पर चल रहे काम तक हर चीज की बारीकी से पड़ताल की। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मोदी ने निर्माण कार्य का निरीक्षण किया और इसमें लगे लोगों से बातचीत की।

यह भी पढ़ें- भारतीय महिला अफसर ने बेनकाब कर दिया पाकिस्तान का झूठ, दुनिया के सामने कश्मीर पर बोलती बंद

संसद का नया भवन 64,500 वर्गफुट होगा

यह इमारत सेंट्रल विस्टा परियोजना का हिस्सा है जिसे विपक्ष की आलोचना का शिकार होना पड़ा है। सरकारी अधिकारियों के अनुसार 2022 में संसद का शीतकालीन सत्र नए भवन में होगा। संसद के नए भवन का क्षेत्रफल 64,500 वर्गफुट होगा। इसमें एक भव्य ‘कॉन्स्टीट्यूशन हाल’ होगा जिसमें भारत की लोकतांत्रिक धरोहर को संजोया जाएगा। इसके अलावा सांसदों के लिए लाउंज, पुस्तकालय, कई समिति कक्ष, भोजन के कक्ष और पार्किंग के लिए स्थान होगा। नई इमारत में लोकसभा में 888 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था होगी जबकि राज्यसभा में 384 सदस्य बैठ सकेंगे। अधिकारियों के अनुसार 2022 में संसद का शीतकालीन सत्र नए भवन में होगा।

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट इसलिए है बेहद महत्पूर्ण

11 फरवरी 2021 के लोक सभा में हुए एक सवाल के जवाब में शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने नए सेंट्रल विस्टा के औचित्य पर प्रकाश डाला था। उन्होंने बताया कि संसद भवन 100 साल पुराना हो चुका है। वर्ष 2026 के बाद लोक सभा की सीटें बढ़ेंगी। इसलिए नया संसद भवन बनाया जा रहा है। केंद्रीय मंत्री के मुताबिक, नई दिल्ली में सेंट्रल विस्टा का मुख्य एवेन्यू राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक फैला हुआ है। मगर, बदलते जमाने के साथ इसे विश्वस्तरीय किया जाना है क्योंकि इसमें सार्वजनिक सेवाओं, सुविधाओं और पार्किंग का अभाव है। बेतरतीब पार्किंग से भीड़ होती है और गलत छवि बनती है। इसलिए भारत सरकार ने नए संसद भवन, कॉमन केंद्रीय सचिवालय और सेंट्रल विस्टा के पुनर्निमाण का निर्णय लिया है।

2 thoughts on “अमेरिका से लौटने के बाद नए संसद भवन के निर्माण का निरीक्षण करने पहुँच गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *