आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत का मुस्लिम नेताओं से आह्वान- कट्टरपंथ के खिलाफ आवाज उठायें

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने मुस्लिम नेताओं से कट्टरवाद के खिलाफ कड़ा रुख अपनाने का आह्वान किया है। मोहन भागवत ने कहा कि इस्लाम आक्रमणकारियों के साथ भारत में आया। यह एक ऐतिहासिक तथ्य है। साथ ही उन्होंने कहा कि मुस्लिम समुदाय के समझदार नेताओं को अतिवाद का विरोध करना चाहिए। उन्हें कट्टरपंथियों के खिलाफ मजबूती से बोलना होगा। इस कार्य के लिए दीर्घकालिक प्रयास और धैर्य की आवश्यकता होगी। मोहन भागवत ने कहा कि यह हम सभी के लिए एक लंबी और कठिन परीक्षा होगी। जितनी जल्दी हम इस प्रयास को शुरू करेंगे, उतना ही कम नुकसान हमारे समाज को होगा।

Also Read This- The influnce of teachers extends beyond the classroom, well into the future

मोहन भागवत ने कहा- भारत बतौर महाशक्ति किसी को डराएगा नहीं

पुणे में ग्लोबल स्ट्रेटेजिक पॉलिसी फाउंडेशन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में भागवत कश्मीरी छात्र, सेवानिवृत्त रक्षा अधिकारी और आरएसएस के सदस्यों को संबोधित कर रहे थे। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि भारत बतौर महाशक्ति किसी को डराएगा नहीं।

मोहन भागवत (फाइल फोटो)

उन्होंने ‘राष्ट्र प्रथम एवं राष्ट्र सर्वोच्च’ विषयक संगोष्ठी में कहा, ‘‘हिंदू शब्द हमारी मातृभूमि, पूर्वज और संस्कृति की समृद्ध धरोहर का पर्यायवाची है तथा इस संदर्भ में हमारे लिए हर भारतीय हिंदू है, चाहे उसका धार्मिक, भाषायी व नस्लीय अभिविन्यास कुछ भी हो।’’ उन्होंने कहा कि हिंदुओं और मुसलमानों के पुरखे एक ही थे। भागवत ने कहा कि भारतीय संस्कृति विविध विचारों को समायोजित करती है और अन्य धर्मों का सम्मान करती है। उन्होंने कहा कि विविधता से समृद्ध समाज का निर्माण होता है तथा ‘‘भारतीय संस्कृति सभी को समान समझती है।’’

अफगानिस्तान के मुद्दे पर हुआ कार्यक्रम का आयोजन

इस कार्यक्रम का आयोजन ऐसे समय में हुआ है जब देश में एक बहस चल रही है कि भारतीय मुसलमानों को अफगानिस्तान के तालिबान के अधिग्रहण का जवाब कैसे देना चाहिए। जावेद अख्तर की तरफ से पिछले हफ्ते आरएसएस और तालिबान को लेकर दिए गए बयान पर भी विवाद जारी है। बैठक में वक्ताओं में से एक, कश्मीर में केंद्रीय विश्वविद्यालय के चांसलर, लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) सैयद अता हसनैन ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि बैठक की योजना काफी पहले बनाई गई थी, लेकिन हाल के घटनाक्रम के आलोक में यह अफगानिस्तान के मुद्दे पर आयोजित किया गया।

पाकिस्तान की कोशिश को विफल करें मुस्लिम बुद्धिजीवी

उन्होंने कहा कि मुस्लिम बुद्धिजीवियों को भारतीय मुसलमानों को निशाना बनाने की पाकिस्तान की कोशिश को विफल करना चाहिए। उन्होंने कहा कि विविधता से समृद्ध समाज का निर्माण होता है तथा ‘‘भारतीय संस्कृति सभी को समान समझती है।’’संगोष्ठी में केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान भी मौजूद थे।

2 thoughts on “आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत का मुस्लिम नेताओं से आह्वान- कट्टरपंथ के खिलाफ आवाज उठायें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *