जम्मू कश्मीर में अलगाववादी मुहिम चलाने वाले सैयद अली शाह गिलानी का निधन

सैयद अली शाह गिलानी का निधन हो गया है। जम्मू कश्मीर में लंबे समय तक अलगाववादी मुहिम की अगुवाई करने वाले, पाकिस्तान समर्थक सैयद अली शाह गिलानी (Syed Ali Shah Geelani) का बुधवार देर रात श्रीनगर में निधन हुआ। (Syed Ali Shah Geelani Dies)  गिलानी काफी दिनों से बीमार चल रहे थे। अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी (Syed Ali Shah Geelani)  के निधन पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से लेकर क्रिकेटर तक ने शोक जाहिर किया है। साथ ही पाकिस्तान में एक दिन के राजकीय शोक का भी ऐलान किया है। गिलानी एक दशक से भी ज्यादा समय से अपने ही घर में नजरबंद थे। जम्मू कश्मीर में धारा 370 हटाने के बाद से ही गिलानी और हुर्रियत के कई नेताओं के खिलाफ NIA की जांच चल रही है।

also read this- India reports 47,092 fresh Covid-19 cases and 509 deaths

सैयद अली शाह गिलानी (फाइल फोटो)

सैयद अली शाह गिलानी के निधन पर पाकिस्तान में एक दिन का शोक

सैयद अली शाह गिलानी के निधन पर पाकिस्तानी के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शोक व्यक्त करते हुए एक दिन के शोक का ऐलान किया है। पाक प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan)  ने ट्वीट कर कहा, ‘पाकिस्तान में एक दिन का शोक रहेगा और झंडे को आधा झुका दिया जाएगा।’

सैयद अली शाह गिलानी कश्मीर आंदोलन के मशालवाहक

उधर, दूसरी तरफ पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सैयद अली शाह गिलानी (Syed Ali Shah Geelani) को कश्मीर आंदोलन का मशालवाहक करार देते हुए दुख जाहिर किया। कुरैशी के अनुसार, गिलानी ने कश्मीरियों के अधिकारियों के लिए लंबे समय तक लड़ाई लड़ी थी, उन्होंने कहा कि सैयद अली शाह गिलानी को शांति मिले और उनकी आजादी का सपना साकार हो। इस पर कांग्रेसी नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने लताड़ लगाते हुए कहा कि मिस्टर कुरैशी, निर्दोष कश्मीरियों की हत्या के लिए आपका देश और आपके नेता इतिहास में दर्ज होंगे

घाटी में सुरक्षा के लिए इंटरनेट सेवा निलंबित, कर्फ्यू भी लग सकता है

गिलानी की अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में लोगों के जुटने का अनुमान है, लिहाजा घाटी में सुरक्षा व्यवस्था को और मुस्तैद किया जा रहा है, इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी गई है। सूत्रों के अनुसार, यहां कर्फ्यू का भी ऐलान किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें- महर्षि स्कूल ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में संवारिये भविष्य, यहां की प्रैक्टिकल ट्रेनिंग स्टूडेंट्स को बनाएगी 100% प्रोफेशनल

सैयद अली शाह गिलानी- एक नजर में

सैयद शाह गिलानी (Syed Ali Shah Geelani) का जन्म 29 सितंबर 1929 को हुआ था। उन्होंने कॉलेज की पढ़ाई पाकिस्तान के लाहौर से की थी वह तीन बार सोपोर से विधायक चुने गए थे। उन्होंने जून 2020 में हुर्रियत छोड़ दिया था। वह हर्ट, किडनी, शुगर समेत कई बीमारियों से पीड़ित थे। पिछले कई वर्षों से खराब स्वास्थ्य के कारण वह कम सक्रिय थे। गिलानी को पाकिस्तान अपने सर्वोच्च नागरिक सम्मान से नवाज चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *