चीनी ऐप्स पर पीएम मोदी का कड़ा रुख, QUAD बैठक में भारत के साथ आये अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया

क्वाड (QUAD) संगठन की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्पष्ट रूप से कहा है कि QUAD देशों को हिंद-प्रशांत क्षेत्र में साथ मिलकर काम करना होगा। उनकी नजरों में QUAD का उदेश्य ही ये है कि सभी साथ मिलकर दुनिया में शांति स्थापित करें, इसे समृद्धि की ओर ले जाएं। अमेरिका में हुई QUAD  बैठक में भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया लगातार कई मुद्दों पर मंथन किया है। कोरोना पर भी बात हुई है और हिंद-प्रशांत क्षेत्र की संवेदनशीलता पर भी विचार रखे गए हैं। साथ ही बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीनी ऐप्स पर अपना कड़ा रुख बरक़रार रखा।

यह भी पढ़ें – कांग्रेसी कलह और मियाँ हुजूर की चिंता

QUAD  बैठक में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा- चुनौतियों का मिलकर सामना करेंगे

QUAD  बैठक की शुरुआत अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने की थी। उन्होंने शुरुआती बयान में ही साफ कर दिया कि दुनिया के सामने कई बड़ी चुनौतियां हैं, लेकिन QUAD साथ मिलकर उनका सामना कर सकता है। बाइडेन ने कहा कि मैं पीएम मॉरिसन, पीएम मोदी और पीएम सुगा का व्हाइट हाउस में स्वागत करता हूं। इस संगठन में सिर्फ वहीं लोकतांत्रिक देश रखे गए हैं जो पूरी दुनिया के लिए समावेशी सोच रखते हैं, जिनका भविष्य के लिए एक विजन है। सभी साथ मिलकर आने वाली चुनौतियों से निपटने की तैयारी करेंगे।

QUAD बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी देशों को क्वाड का महत्व

जो बाइडेन के शुरुआती स्टेटमेंट के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने भी QUAD की बैठक में बड़ा बयान दिया था। उन्होंने एक तरफ सभी देशों को QUAD की अहमियत समझाई, वहीं दूसरी तरफ इस संगठन के उदेश्यों को भी स्पष्टता से रखने का प्रयास किया। मोदी ने कहा कि सबसे पहले साल 2004 के बाद QUAD देश एकजुट हुए थे। तब सुनामी से निपटने के लिए हर तरह की मदद की गई थी। अब जब पूरी दुनिया कोरोना से लड़ रही है तब फिर दुनिया की भलाई के लिए QUAD सक्रिय हुआ है।

also read this- PIB tweets, debunks news on lockdown

ऑस्ट्रेलिया और जापान के प्रधानमंत्री ने भी किया संबोधित

QUAD बैठक में ऑस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरिसन ने भी अपने मन की बात की। उन्होंने कहा कि हम एक स्वतंत्र और मजबूत हिंद-प्रशांत क्षेत्र में विश्वास रखते हैं। तभी इस क्षेत्र का संपूर्ण विकास संभव है। जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा ने कहा कि QUAD बैठक होने का मतलब है कि तमाम देश स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र का समर्थन करते हैं। उन्होंने कहा कि पहले अमेरिका ने जापानी खाद्य उत्पादों पर प्रतिबंध लगा दिया था लेकिन अप्रैल महीने में उसे वापस ले लिया गया, जिससे जापान को आर्थिक रूप से बड़ी राहत मिली है।

चीनी ऐप्स पर पीएम मोदी का कड़ा रुख

QUAD देशों ने अफगानिस्तान की वर्तमान स्थिति पर भी विस्तार से चर्चा की। तालिबान को भी संदेश देने का प्रयास रहा। वहीं एक वक्त ऐसा भी आया जब पीएम मोदी ने चीनी ऐप्स पर अपना कड़ा रुख दिखाया। उन्होंने ‘CLEAN APP MOVEMENT’ को धार देने पर जोर दिया । उनकी इस पहल का QUAD के दूसरे देशों ने स्वागत किया। भारत ने कई चीनी ऐप्स पर बैन लगा रखा है। किसी को राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर तो किसी को निजता का हनन करने की वजह से बैन किया गया है।